डीएम क्या होता है और कैसे बने | full form of dm 2022

 डीएम क्या होता है | full form of dm  दोस्तों डीएम बनना बहुत से कैंडिडेट का सपना होता है तो उन सभी दोस्तों के लिए आज की इस पोस्ट में हम जानेगे की डीएम (DM) कैसे बनते है (How to become DM Officer)  और बनने के लिए क्या करे इन्हे क्या क्या कार्य करना होता है, कितना वेतन मिलता है, योग्यता क्या होनी चाहिए, भर्ती प्रकिर्या क्या होती है , कितनी बार एग्जाम दे सकते है और एप्लीकेशन फॉर्म के बारे में कैसे पता करेंगे।

डीएम कैसे बनें यह कई लोगों के लिए एक बड़ा सवाल होता है। सबसे अधिक उन लोगों के लिए जो बहुत ही भावुक हैं इसे लेकर और पहले से ही जीवन में अपने लक्ष्य पर फैसला कर चुके हैं। जिला मजिस्ट्रेट जिसे डीएम के रूप में जाना जाता है और  एक आईएएस अधिकारी पद को प्राप्त करता है।लेकिन इस जुनून के साथ एक और चीज है जो डीएम बनने के लिए बेहद जरूरी है।

अगर आपको उस एक गुण को खोजना है तो आपको पोस्ट को आख़िरी  तक पढ़ना चाहिए। यह पोस्ट आपका मार्गदर्शन करेगा और आपको सरल चरणों में डीएम बनने में मदद करेगा।एक जिला मजिस्ट्रेट एक विशेष जिले से आगे होता है। एक अच्छे वेतन और प्रतिष्ठा के साथ, एक जिला मजिस्ट्रेट को मूल वेतन के साथ-साथ बहुत सारे लाभ भी मिलते हैं। लेख में डीएम के सभी लाभों का खुलासा किया गया है। लेख को पढ़ते रहें ताकि आपको वेतन भत्तों के साथ मिल जाए।

Table of Contents

डीएम क्या होता है (Who is DM)

बहुत से लोग इस बात से वाकिफ नहीं हैं कि वास्तव में डीएम (Dm )क्या है? या डीएम का मतलब क्या होता है तो आइए सबसे पहले हम  यही  समझते हैं कि डीएम क्या होता है। अधिक जानकारी के लिए बता दें कि डीएम एक जिला मजिस्ट्रेट हैं और डीएम कोई और नहीं बल्कि एक आईएएस अधिकारी ही होता हैं। डीएम एक जिले के प्रशासनिक अधिकारी होता हैं। उन्हें जिले के मुख्य कार्यकारी मजिस्ट्रेट के रूप में भी जाना जाता है। डीएम को जिला कलेक्टर के रूप में भी जाना जाता है। एक डीएम पूरे जिले के प्रशासन के लिए जिम्मेदार होता है।

वर्तमान में, भारत में 742 जिले हैं और हमारे देश के प्रत्येक जिले को एक जिला मजिस्ट्रेट द्वारा सुचारू रूप से चलाया जाता है। एक डीएम की सहायता के लिए एसडीओ, एसडीएम, बीडीओ जैसे कई अधिकारी उपलब्ध होते हैं जो डीएम की सहायता करते हैं।

डीएम बनने के लिए उम्मीदवार को पहले यूपीएससी-सीएसई परीक्षा के लिए अर्हता प्राप्त करनी होगी और आईएएस अधिकारी बनना होगा। एक आईएएस अधिकारी के रूप में 6 साल तक सेवा करने के बाद, जिसमें 2 साल की प्रशिक्षण अवधि भी शामिल है। एक उम्मीदवार डीएम बनने के योग्य होता है। डीएम बनने के लिए उम्मीदवार को आईएएस अधिकारियों की रैंक सूची में सबसे ऊपर होना चाहिए।डीएम जिले के ऐसे ही प्रोटोकॉल अधिकारी हैं?

डीएम कोई और नहीं बल्कि एक भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं जो एक जिले के मुख्य कार्यकारी अधिकारी भी हैं। और, पूरे जिले के प्रशासन की भूमिका और जिम्मेदारी का प्रभारी है।

डीएम फुल फॉर्म (full form of dm )

डीएम का फुल फॉर्म डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट होता है। जिन्हे हिंदी में जिलाधिकारी कहते है डीएम एक जिले का मुख्य प्रशासनिक अधिकारी होता है जो जिले के राजस्व के लिए भी जिम्मेदार होता है।

डीएम बनने के लिए आपको UPSC (यूनियन पब्लिक सर्विस सेंटर) जिसे हिंदी में संघ लोक सेवा आयोग कहा जाता है। इनके द्वारा ही ख़ाली पदों को भरने के लिए UPSC हर साल परीक्षा को आयोजित करता है और यह परीक्षा आपको पास करना होता है। यह परीक्षा तीन चरणों में आयोजित की जाती है।  पहला प्रारम्भिक दूसरा  मुख्य लिखित परीक्षा तीसरा आपका साक्षात्कार

इन चरणों को जैसे ही आप पूरा कर लेते है। तब आपको एक आईएएस अधिकारी का पद प्राप्त होता है। जिससे आप अपने ही राज्य के जिले अधिकारी यानि कलेक्टर के रूप में जाने जाते है तब आपका यह पद डीएम कहलाता है और आप एक जिलाधिकारी बन जाते है।

UPSC एग्जाम क्या है 

जैसा कि मैंने ऊपर आपको बताया है कि डीएम बनने के लिए आपको यूपीएससी परीक्षा को पास करना होता है और आईएएस अधिकारी बनना होता है। इसलिए आपको यूपीएससी परीक्षा के लिए आवेदन करने के लिए परीक्षा की सम्पूर्ण जानकारी होना बहुत ज़रूरी होता है। आइए पहले परीक्षा की सम्पूर्ण जानकारी देखते है और फिर समझें कि यूपीएससी परीक्षा क्या है और  यूपीएससी के चरण क्या हैं?

जैसे की मेने आपको बताया था की यूपीएससी में एग्जाम तीन तरह के होते है –

प्रारम्भिक परीक्षा (Preliminary)

  • प्रारंभिक परीक्षा में 2 पेपर होते हैं जो आयोजित किए जाते हैं।
  • प्रत्येक पेपर में 200 अंक होते हैं।
  • प्रश्न पत्र दो भाषाओं अर्थात् अंग्रेजी और हिंदी में है
  • पेपर की अवधि 2 घंटे होती है।
  • इस परीक्षा में 1/3  पेनल्टी की नेगेटिव मार्किंग होती है। यानी प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.33 अंक की नकारात्मक अंकन है
  • प्रारंभिक परीक्षा आम तौर पर अक्टूबर के महीने में होती है।
  • प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर होते हैं – पेपर 1 और पेपर 2।
  • यह वैकल्पिक परीक्षा होती है जो ऑफलाइन के माध्यम से की जाती है।

सामान्य अध्ययन पेपर – 1  (General Studies Paper – 1)

  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान और हाल की घटनाएं
  • भारतीय और विश्व भूगोल (दुनिया और भारत का भौतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल)
  • भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन
  • आर्थिक और सामाजिक विकास (सतत विकास, समावेशन, गरीबी, सामाजिक क्षेत्र की पहल, जनसांख्यिकी, आदि)
  • भारतीय राजनीति और शासन (पंचायती राज, राजनीतिक व्यवस्था, संविधान, सही मुद्दे, सार्वजनिक नीति, आदि)
  • सामान्य विज्ञान
  • जैव विविधता, पर्यावरण पारिस्थितिकी और जैव विविधता पर सामान्य मुद्दे जिन्हें विषय विशेषज्ञता की आवश्यकता नहीं है

सामान्य अध्ययन पेपर – 2   (General Studies Paper – 2)

  • संचार कौशल सहित पारस्परिक कौशल
  • समझ
  • तार्किक तर्क और विश्लेषणात्मक क्षमता
  • सामान्य मानसिक क्षमता
  • निर्णय लेना और समस्या-समाधान
  • बैस संख्या (संख्या और साथ ही उनके संबंध, परिमाण के क्रम, आदि)
  • अंग्रेजी भाषा समझ कौशल (दसवीं कक्षा तक)
  • डेटा इंटरप्रिटेशन (तालिकाएँ, डेटा पर्याप्तता, ग्राफ़, चार्ट, आदि दसवीं कक्षा तक)

मुख्य परीक्षा (Mains)

  • प्रारंभिक परीक्षा को पास  करने के बाद आप मुख्य परीक्षा के लिए चुने जाते है यह आम तौर पर, मुख्य परीक्षा जनवरी के महीने में आयोजित की जाती है।
  • हालांकि मेन्स परीक्षा में 9 पेपर होते हैं, इन 9 पेपरों में से केवल 7 पेपर ही मेरिट रैंकिंग के लिए होते है । बाकि के दो पेपर qualify के लिए  किये जाते है
  •  इस परीक्षा के कुल अंक 1750 अंक हैं।
  • यह परीक्षा लिखित होती है। यह भी ऑफलाइन के द्वारा की जाती है।
पेपर सिलेबस अंक  समय 
निबंध   निबंध 250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 1 भारतीय विरासत, संस्कृति,
भूगोल
250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 2 संविधान, शासन,
सामाजिक न्याय
250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 3 प्रौद्योगिकी, पर्यावरण,
आपदा प्रबंधन
250 3 घंटे
सामान्य अध्ययन 4 एथिक्स 250 3 घंटे
वैकल्पिक विषय 1 Any 250 3 घंटे
वैकल्पिक विषय 1 Any 250 3 घंटे
पेपर 1 भारतीय भाषा में से कोई भी 300 3 घंटे
पेपर 2 English language 300 3 घंटे

साक्षात्कार (Interview)

Leave a Comment