UPSC सिलेबस पीडीऍफ़ इन हिंदी 2024 डाउनलोड करे यूपीएससी सिलेबस और स्ट्रेटेजी जाने

upsc syllabus pdf in hindi : यदि आप UPSC की तैयारी करना चाहते है या सोच रहे तब आपको इस आर्टिकल की बहुत जरुरत पड़ने वाली है क्योकि में आपको इस आर्टिकल में UPSC IAS Syllabus से रेलेटेड वह सभी बारीकियों के बारे में डिस्कस करुँगी जो एक UPSC कैंडिडेट को मालूम होनी चाहिए।

इस पोस्ट के माध्यम से आपको upsc syllabus 2024 और स्ट्रेटेजी के बारे में सपूर्ण जानकरी आपको बताई जायेगी इसलिए इस पोस्ट को ध्यान पूरक पड़े और समझे। देखा जाय तो हमारे भारत देश में यूपीएससी सीएसई परीक्षा को लेकर लोग बहुत सीरियस होते है क्योकि यह एग्जाम बहुत हाई डिफिकल्ट एग्जाम है इसको पास कर पाना हर किसी के बस की बात नहीं होती है क्योकि यह एग्जाम समय के साथ बहुत ज्यादा कॉम्पिटिशन और कठिन होता जा रहा है।

यह एग्जाम जितना कठिन होता है उतना ही इसमें नाम,शोहरत , इज्जत और एक आराम दायक ज़िन्दगी के साथ पैसो से भरपूर लाइफ होती है इसलिए आज के समय में हर व्यक्ति UPSC एग्जाम की तरफ अपना मन बना लेता है और इसकी तैयारी करने में जूट जाता है।

तैयारी करने से पहले आपको इस एग्जाम के कुछ पॉइंट को दिमाग में रखने होंगे जो की बहुत जरुरी है जैसे इसके UPSC CSE Syllabus 2024 और पैटर्न को ठीक ठाक तरीके से समझना, बुक रिसोर्सेस के बारे में सही तरीके से जानकारी होना और आपकी स्ट्रेटेजी इतनी मजबूत होनी चाहिए की आप उस पर अटल रह सके। क्योकि यह एग्जाम आप से केवल मेहनत , द्रढ़ता और स्मार्ट स्ट्रेटेजी की डिमांड करती है।

upsc syllabus pdf
upsc syllabus pdf

UPSC एग्जाम क्या होता है

UPSC यानी (Union Public Service Commission) जिसे हिंदी में संघ लोक सेवा आयोग के नाम से जानते है। यह भारत सरकार की तरफ से एक लोक सेवा आयोग के लिए परीक्षा आयोजित करता है जिसमे चुनिंदा सिविल सेवा परीक्षा (Civil Services Examination) यह परीक्षा भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS), भारतीय विदेश सेवा (IFS), और अन्य विभिन्न संबंधित सेवाओं के लिए होती है।

यदि आप आईएएस ,आईपीएस बनना चाहते है तब आपको इसके लिए UPSC का एग्जाम क्रैक करना होता है। रैंकिंग के बेस पर ही आप का चुनाव रिक्त पद के लिए तय होता है।

UPSC एग्जाम पैटर्न के बारे में जानकारी

UPSC की तैयारी करने से पहले आपको इसके एग्जाम पैटर्न के बारे में जरूर मालूम होना चाहिए। यह तीन चरणों में शामिल है –

  1. प्रारम्भिक परीक्षा
  2. मुख्य परीक्षा
  3. साक्षात्कार

प्रारम्भिक परीक्षा पैटर्न – upsc syllabus in hindi

प्रारंभिक परीक्षाएँ, जिन्हें अक्सर प्रीलिम्स या प्रारंभिक कहा जाता है, इस परीक्षा का पहला चरण प्रारंभिक एग्जाम को क्लियर करना होता है इसको क्लियर करने के बाद आप मुख्य परीक्षा में शामिल हो पाते है।

यहां, मैं सिविल सेवा के लिए एक विशिष्ट प्रारंभिक परीक्षा पैटर्न का एक सामान्य अवलोकन प्रदान करूंगा। इसके बाद पैटर्न को सारांशित करने वाली एक तालिका दी जाएगी। आइए सिविल सेवा परीक्षा के लिए प्रारंभिक परीक्षा के पैटर्न पर विचार करें।

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा पैटर्न

अनुभागप्रश्नों की संख्याअंक समय टिप्पणी
सामान्य अध्ययन पेपर I1002002 hoursइसमें समसामयिक घटनाओं, इतिहास, भूगोल, राजनीति, अर्थशास्त्र, पर्यावरण आदि को शामिल किया गया है।
सामान्य अध्ययन पेपर II (CSAT)802002 hoursसमझ, तार्किक तर्क, विश्लेषणात्मक क्षमता, निर्णय लेने, समस्या-समाधान, बुनियादी संख्यात्मकता आदि का परीक्षण किया जाता है।
Total1804004 hours
  • प्रारंभिक परीक्षा एक लिखित परीक्षा होती है।
  • यह ऑफलाइन के माध्यम से परीक्षा ली जाती है।
  • इसमें दो पेपर होते हैं: पेपर 1 (सामान्य अध्ययन) और पेपर 2 (सामान्य अध्ययन पेपर II) जिसे CSAT के नाम से जानते है।
  • यह परीक्षा आधिकारिक रूप से आईएएस और आईपीएस की प्रारंभिक चयन परीक्षा होती है, और आगे की चरणों के लिए योग्यता का मापदंड होती है।
  • प्रीलिम्स एग्जाम में negative मार्किंग होती है 1 / 3 की। गलत उत्तरों के लिए आम तौर पर जुर्माना होता है, जो अक्सर प्रश्न के लिए आवंटित अंकों का एक अंश होता है।
  • सामान्य अध्ययन पेपर I: यह पेपर वर्तमान घटनाओं, इतिहास, भूगोल, राजनीति, अर्थशास्त्र और पर्यावरण संबंधी मुद्दों सहित विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला का परीक्षण करता है। इसका उद्देश्य उम्मीदवार की सामान्य जागरूकता और ज्ञान के आधार का आकलन करना है।
  • सामान्य अध्ययन पेपर II (CSAT): सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट (CSAT) उम्मीदवार की समझ, तार्किक तर्क, विश्लेषणात्मक क्षमता, निर्णय लेने, समस्या-समाधान और बुनियादी संख्यात्मकता में योग्यता का आकलन करता है।
  • मुख्य परीक्षा के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों को एक निश्चित सीमा से ऊपर अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। उदाहरण के लिए, पेपर II (CSAT) के लिए उम्मीदवारों को अगले चरण के लिए विचार करने के लिए कम से कम 33% अंक प्राप्त करने की आवश्यकता हो सकती है।

मुख्य परीक्षा पैटर्न – upsc syllabus pdf 2024

प्रीलिम्स एग्जाम को क्लियर करने के बाद दूसरा चरण मुख्य परीक्षा में शामिल होना है। मुख्य परीक्षा को इंग्लिश में (Mains) एग्जाम कहते है। मुख्य परीक्षा अधिक विस्तृत और गहन होती है, और इसमें descriptive प्रश्न होते हैं जो उम्मीदवारों के ज्ञान, Analytical Skill और लेखन क्षमता का परीक्षण करते हैं।

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा पैटर्न

पेपरविषयअंकसमयटिप्पणी
पेपर Aअनिवार्य भारतीय भाषा3003 घंटेकेवल qualifying पेपर है जिसे पास करना होता है। -उम्मीदवार द्वारा चुनी गई भाषा से
पेपर Bअंग्रेज़ी3003 घंटेकेवल qualifying पेपर है जिसे पास करना होता है।
पेपर Iनिबंध2503 घंटेदिए गए विषयों पर निबंध लिखना होता है।
पेपर IIसामान्य अध्ययन I2503 घंटेभारतीय धरोहर और संस्कृति, इतिहास, और विश्व एवं समाज का भूगोल
पेपर IIIसामान्य अध्ययन II2503 घंटेशासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय, और अंतर्राष्ट्रीय संबंध
पेपर IVसामान्य अध्ययन III2503 घंटेप्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन
पेपर Vसामान्य अध्ययन IV2503 घंटेनैतिकता, अखंडता, और योग्यता
पेपर VIवैकल्पिक विषय – पेपर I2503 घंटेउम्मीदवार द्वारा चुना गया वैकल्पिक विषय
पेपर VIIवैकल्पिक विषय – पेपर II2503 घंटेउम्मीदवार द्वारा चुना गया वैकल्पिक विषय
कुल(योग्यता पेपरों को छोड़कर)1750
(Main Examination)
  • मुख्य परीक्षा में 9 पेपर शामिल होते है जिसमे सामान्य अध्ययन पेपर 4 होते है।
  • वैकल्पिक विषय के 2 पेपर शामिल होते है और एक पेपर है जिसमें निबंध लिखना होता है, और अंतिम दो पेपर होते हैं जिसमें एक है भाषा पेपर और दूसरा अंग्रेजी योग्यता का पेपर शामिल है।
  • योग्यता पेपर (पेपर A और पेपर B): ये भाषाई पेपर होते हैं जिन्हें केवल उत्तीर्ण करना आवश्यक है, लेकिन इन पेपरों में प्राप्त अंक अंतिम रैंकिंग में शामिल नहीं होते।
  • निबंध पेपर (पेपर I): इस पेपर में उम्मीदवार को दिए गए विषयों पर निबंध लिखने होते हैं, जो उनकी विचार स्पष्टता और अभिव्यक्ति क्षमता का परीक्षण करता है।
  • सामान्य अध्ययन पेपर (पेपर II से V): ये पेपर विविध विषयों पर आधारित होते हैं, जैसे भारतीय धरोहर, इतिहास, भूगोल, राजनीति, शासन, प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, पर्यावरण, सुरक्षा, और नैतिकता।
  • वैकल्पिक विषय पेपर (पेपर VI और VII): उम्मीदवार द्वारा चयनित एक वैकल्पिक विषय पर आधारित दो पेपर होते हैं, जो उनके विशेष ज्ञान का परीक्षण करते हैं।
  • कुल अंक: पेपर I से VII के अंक अंतिम रैंकिंग में शामिल होते हैं। इन पेपरों में अच्छे अंक प्राप्त करने वाले उम्मीदवारों को साक्षात्कार में शामिल किया जाता है।

साक्षात्कार (Interview)

दोनों चरणों को पास करने के बाद आपका तीसरा चरण साक्षात्कार होता है जिसमे सिविल सेवा परीक्षा में उत्तीर्ण उम्मीदवारों को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है। साक्षात्कार का मुख्य उद्देश्य उम्मीदवारों की व्यक्तित्व, ज्ञान, social cognition और analytical क्षमता को मापना होता है।

upsc syllabus pdf download 2024

upsc syllabus pdf download: UPSC की तैयारी करने से पहले आपको इसके upsc prelims syllabus in hindi के बारे में अच्छे तरीके से जानकारी होनी चाहिए क्योकि यह तैयारी करने से पहले आपको यह बताता है की आपको क्या -क्या पड़ना चाहिए। सिलेबस हमे एक तरह से Guidance का काम करता है।

UPSC syllabus pdf download EnglishUPSC syllabus pdf download Hindi

इसलिए यूपीएससी सिलेबस इन हिंदी PDF सिलेबस को आपको सही तरिके से पड़ और समझ लेना चाहिए। upsc syllabus 2024 आपको जितने अच्छे तरिके से ज्ञात होगा उतना ही आसान आपकी पढ़ाई का मार्ग रहेगा। निचे आपको इसके सिलेबस के बारे में सठिक जानकरी मिल जाएगी वो भी पीडीऍफ़ सहित जिससे आप upsc syllabus pdf download कर सकते है।

Prelims Syllabus UPSC इन हिंदी 2024

UPSC Prelims syllabus 2024 सिविल सर्विस प्रीलिम्स का सिलेबस दो पेपर्स में विभाजित होता है। पेपर I: General Studies और पेपर II: CSAT (Civil Services Aptitude Test) आईये जानते है प्रीलिम्स सिलेबस को डिटेल्स से।

सामान्य अध्ययन पेपर I – General Studies (200 अंक )

टॉपिक सब -टॉपिक
राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएं (Current events of national and international importance)भारत और विश्व में हाल के विकास और घटनाओं पर ध्यान केंद्रित करें।
भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन (History of India and Indian Nationalप्राचीन, मध्यकालीन, और आधुनिक भारत का इतिहास।
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महत्वपूर्ण घटनाएँ और आंदोलन।
भारत और विश्व का भूगोल ( Indian and World Geography )1. भौतिक भूगोल: पर्वत, नदियाँ, जलवायु, प्राकृतिक संसाधन, आदि।
2. सामाजिक और आर्थिक भूगोल: जनसंख्या, शहरीकरण, कृषि, उद्योग, आदि।
3 . विश्व का भूगोल: प्रमुख भौगोलिक विशेषताएँ और पर्यावरणीय मुद्दे।
भारतीय राजव्यवस्था और शासन (Indian Polity and Governance )इसमें शामिल विषय जो आपको कवर करने होंगे जैसे संविधान (Constitution ) , राजनीतिक प्रणाली) Political System पंचायती राज
(Panchayati Raj) सार्वजनिक निति (Public Policy ) अधिकार मुद्दे (Rights Issues)
1. भारतीय संविधान: संरचना, विशेषताएँ, संशोधन, आदि।
2 .राजनीतिक प्रणाली और शासन: कार्यपालिका, न्यायपालिका, विधानपालिका, पंचायती राज संस्थाएँ।
3 .लोक नीतियाँ, अधिकार मुद्दे, और सामाजिक न्याय।
आर्थिक और सामाजिक विकास ( Economic and Social Development )शामिल विषय – सतत विकास (Sustainable Development ) गरीबी (Poverty ) समावेशन (Inclusion) , जनसांख्यिकी (Demographics) , सामाजिक क्षेत्र की पहल (Social Sector initiatives) 1 .आर्थिक विकास: आर्थिक नीतियाँ, योजना, वृद्धि, मुद्रास्फीति, बैंकिंग, आदि।
2 .सामाजिक विकास: स्वास्थ्य, शिक्षा, गरीबी उन्मूलन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की योजनाएँ।
3.सतत विकास: पर्यावरण संरक्षण, संसाधन प्रबंधन, जलवायु परिवर्तन, आदि।
पर्यावरण पारिस्थितिकी, जैव विविधता और जलवायु परिवर्तन पर सामान्य मुद्दे ( General issues on Environmental Ecology, Biodiversity and Climate Change )1. पारिस्थितिकी और जैव विविधता: पारिस्थितिकी तंत्र, वन्य जीवन संरक्षण, पर्यावरणीय क्षरण, आदि।
2.जलवायु परिवर्तन: कारण, प्रभाव, वैश्विक वार्मिंग, पर्यावरणीय समस्याएँ, और निवारण रणनीतियाँ।
सामान्य विज्ञान ( General Science )1. भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान के बुनियादी सिद्धांत और घटनाएँ।
2. विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नवीनतम विकास और खोजें।

सामान्य अध्ययन पेपर II CSAT – (Civil Services Aptitude Test) – prelims syllabus upsc

इस पेपर में 200 अंक होते हैं और इसमें 80 वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है । समय सीमा 2 घंटे होती है और यह पेपर केवल qualifying का होता है और उम्मीदवारों को इसमें कम से कम 33% अंक प्राप्त करना बहुत जरुरी रहता है।

upsc csat syllabus pdf Downlod

टॉपिक सब – टॉपिक
समझ और समग्रता (Comprehension)इसमें पढ़ने और समझने की क्षमता का परीक्षण किया जाता है।
अंतरवैयक्तिक कौशल सहित संचार कौशल (Interpersonal Skills including Communication Skills)संचार और अन्य लोगों के साथ प्रभावी ढंग से बातचीत करने की क्षमता
तार्किक क्षमता और विश्लेषणात्मक योग्यता (Logical Reasoning and Analytical Ability)तर्कशक्ति और समस्याओं का विश्लेषण करने की क्षमता।
सामान्य मानसिक योग्यता (General Mental Ability)मानसिक योग्यता और संज्ञानात्मक कौशल।
बुनियादी संख्यात्मकता (Basic Numeracy):1 . संख्यात्मक क्षमता (संख्याओं और उनके संबंध, परिमाण का आदेश)।
2 .कक्षा X स्तर के अंकगणित, डेटा व्याख्या (चार्ट, ग्राफ, तालिकाएँ, डेटा पर्याप्तता) पर प्रश्न।
prelims syllabus upsc
  • दोनों पेपरों में गलत उत्तरों के लिए नकारात्मक अंकन है, जो प्रत्येक गलत उत्तर के लिए निर्धारित अंकों का एक तिहाई होता है।
  • प्रत्येक पेपर के लिए 2 घंटे की समय सीमा होती है।
  • पेपर II (CSAT) एक योग्यता प्रकृति का पेपर है, जिसमें उम्मीदवारों को कुल अंक का कम से कम 33% प्राप्त करना अनिवार्य है।

upsc mains syllabus pdf in hindi 2024

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) का सिलेबस बहुत विस्तृत होता है और इसमें नौ पेपर शामिल हैं। इनमें से दो पेपर केवल क्वालिफाइंग हैं, जबकि बाकी सात पेपर मेरिट के लिए गिने जाते हैं। यहां पर UPSC मुख्य परीक्षा के सिलेबस का विस्तार पूर्वक जानकारी निचे दी गयी है। upsc syllabus pdf in hindi 2024

प्रश्नपत्र विषय अंक
प्रश्नपत्र – A अनिवार्य भारतीय भाषा300 क्वालिफाइंग
प्रश्नपत्र – Bअंग्रेजी भाषा300 क्वालिफाइंग
प्रश्नपत्र – 1निबंध250
प्रश्नपत्र – 2सामान्य अध्ययन – 1: भारतीय विरासत और संस्कृति ,विश्व का इतिहास एवं भूगोल तथा समाज
प्रश्नपत्र – 3सामान्य अध्ययन – 2 : शासन व्यवस्था , संविधान , राजयव्यवस्था , सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध।250
प्रश्नपत्र – 4सामान्य अध्ययन – 3 : प्रौद्योगिकी , आर्थिक विकास , जैव – विविधता , पर्यावरण सुरक्षा और आपदा प्रबंधन।250
प्रश्नपत्र – 5सामान्य अध्ययन – 4 : नितिशास्त्र , सत्यनिष्ठा और अभिवृति।250
प्रश्नपत्र – 6वैकल्पिक विषय – 1250
प्रश्नपत्र – 7वैकल्पिक विषय – 2250
कूल टोटल अंक 1750
व्यक्ति परिक्षण275
कुल योग2025

प्रश्नपत्र (A ) – अनिवार्य भारतीय भाषा (क्वालिफाइंग)

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) में अनिवार्य भारतीय भाषा (पेपर A) एक क्वालिफाइंग पेपर है, जिसका उद्देश्य उम्मीदवार की भारतीय भाषाओं में दक्षता को परखना है। यह पेपर कुल 300 अंकों का होता है और इसमें न्यूनतम योग्यता अंक प्राप्त करना अनिवार्य होता है। इस पेपर में उत्तीर्ण होना आवश्यक है, लेकिन इसके अंक मेरिट में नहीं जोड़े जाते हैं। अंग्रेजी में न्यूनतम अर्हता अंक 25% यानि 75 अंक निर्धारित किये गए है। अंग्रेजी भाषा और भारतीय भाषा का पेपर साथ ही प्रकाशित किया जाता है।

निबंध लेखन करना

  • एक निबंध (लगभग 600 शब्दों में)
  • विषय आमतौर पर सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक या आर्थिक मुद्दों पर आधारित होता है।

सार लेखन करना

  • एक छोटे गद्यांश का सारांश लिखना (लगभग 300 शब्दों में)
  • यह उम्मीदवार की संक्षेपण और सटीकता की क्षमता को परखता है।

अनुवाद करना

  • अंग्रेजी से संबंधित भाषा में एक पैराग्राफ का अनुवाद करना।
  • संबंधित भाषा से अंग्रेजी में एक पैराग्राफ का अनुवाद करना।
  • यह उम्मीदवार की द्विभाषीय क्षमता को परखता है।

व्याकरण और भाषा ज्ञान का होना

  • उम्मीदवार को दी गई सामग्री का संक्षिप्तीकरण करना।
  • वाक्य निर्माण: व्याकरण और भाषा संरचना की जाँच के लिए।
  • मुहावरे और लोकोक्तियां: उनकी समझ और उपयोग।

चयन के लिए भाषाएं: भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल भाषाओं में से किसी एक का चयन किया जा सकता है। ये भाषाएं हैं

भाषालिपि
असमियाअसमिया
बंगालीबंगाली
गुजरातीगुजराती
हिंदीदेवनागरी
कन्नड़कन्नड़
कश्मीरीफारसी
कोंकणीदेवनागरी
मलयालममलयालम
मणिपुरीबंगाली
मराठीदेवनागरी
नेपालीदेवनागरी
उड़ियाउड़िया
पंजाबीगुरुमुखी
संस्कृतदेवनागरी
सिंधीदेवनागरी या अरबी
तमिलतमिल
तेलुगुतेलुगु
उर्दूफारसी
बोडोदेवनागरी
डोगरीदेवनागरी
मैथिलीदेवनागरी
संथालीदेवनागरी या ओलचिकि

अनिवार्य भारतीय भाषा की तैयारी टिप्स

  1. भाषा की समझ: जिस भाषा को आप चुनते हैं, उसकी अच्छी समझ होनी चाहिए। यह आपकी स्कूली शिक्षा या रोजमर्रा की भाषा हो सकती है।
  2. नियमित अभ्यास: निबंध लिखने, सारांश बनाने और अनुवाद करने का नियमित अभ्यास करें।
  3. अखबार और पत्रिकाएं पढ़ें: उस भाषा में प्रकाशित अखबार और पत्रिकाएं पढ़ें। यह आपकी भाषा कौशल को सुधारने में मदद करेगा।
  4. व्याकरण की पुस्तकें: उस भाषा की व्याकरण की पुस्तकें पढ़ें और व्याकरण के नियमों का अभ्यास करें।
  5. मॉक टेस्ट: मॉक टेस्ट और पिछले साल के प्रश्नपत्र हल करें। यह आपको परीक्षा पैटर्न और प्रश्नों की प्रकृति को समझने में मदद करेगा।
  6. शब्दावली बढ़ाएं: उस भाषा की शब्दावली को बढ़ाएं। इसके लिए आप शब्दकोश का उपयोग कर सकते हैं।

यह पेपर केवल क्वालिफाइंग होता है, लेकिन इसमें अच्छे अंक प्राप्त करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यदि आप इस पेपर में उत्तीर्ण नहीं होते हैं, तो आपके अन्य पेपरों का मूल्यांकन नहीं किया जाएगा।

पेपर B: अंग्रेजी भाषा क्वालिफाइंग

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) में अनिवार्य अंग्रेजी भाषा (Paper B) एक क्वालिफाइंग पेपर है जिसका उद्देश्य उम्मीदवार की अंग्रेजी भाषा में efficiency को परखना है। यह पेपर 300 अंकों का होता है और इसमें न्यूनतम योग्यता अंक प्राप्त करना अनिवार्य है। इस पेपर में उत्तीर्ण होना आवश्यक है, लेकिन इसके अंक मेरिट में नहीं जोड़े जाते हैं।अंग्रेजी में न्यूनतम अर्हता अंक 25% यानि 75 अंक निर्धारित किये गए है।

निबंध लेखन

  • एक निबंध (लगभग 600 शब्दों में)।
  • विषय आमतौर पर सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक या समसामयिक मुद्दों पर आधारित होते हैं।

ट्रांसलेट

  • एक अंश का अनुवाद करना ।
  • अंग्रेजी से संबंधित भाषा में एक पैराग्राफ का अनुवाद और संबंधित भाषा से अंग्रेजी में एक पैराग्राफ का अनुवाद करना ।

व्याकरण और संक्षिप्त लेखन

  • संक्षिप्तीकरण: एक गद्यांश का संक्षेप लिखना
  • वाक्य निर्माण: व्याकरण और भाषा संरचना की जाँच के लिए।
  • वाक्य सुधार: व्याकरण की त्रुटियों को सुधारना।

अंग्रेजी भाषा की तैयारी टिप्स

  1. नियमित रूप से अंग्रेजी में निबंध लिखने का अभ्यास करें।
  2. विभिन्न विषयों पर निबंध लिखें, विशेष रूप से समसामयिक मुद्दों पर।
  3. निबंध में स्पष्टता, तार्किकता और संगठित ढंग से विचार प्रस्तुत करें।
  4. अनुवाद का नियमित अभ्यास करें।
  5. अंग्रेजी से अपनी मातृभाषा और अपनी मातृभाषा से अंग्रेजी में अनुवाद का अभ्यास करें।
  6. अनुवाद करते समय सटीकता और स्पष्टता पर ध्यान दें।
  7. अंग्रेजी व्याकरण की पुस्तकों से अभ्यास करें।
  8. व्याकरण की त्रुटियों को पहचानने और सुधारने की क्षमता विकसित करें।
  9. अंग्रेजी समाचार पत्र, पत्रिकाएँ और किताबें पढ़ें।
  10. पढ़ने की आदत से शब्दावली और भाषा की समझ में सुधार करे ।
  11. मॉक टेस्ट और पिछले साल के प्रश्नपत्र हल करें।
  12. इससे परीक्षा पैटर्न और प्रश्नों की प्रकृति को समझने में मदद मिलती है।
  13. नियमित अभ्यास करे।
  14. जो भी गलती हो, उसे ठीक करने की कोशिश करें और उससे सीखे।

यह पेपर UPSC मुख्य परीक्षा में उम्मीदवारों की अंग्रेजी भाषा की बुनियादी समझ और दक्षता को परखने के लिए डिजाइन किया गया है। इसे गंभीरता से लेने और उचित तैयारी करने से इस पेपर में उत्तीर्ण होने में सहायता मिलेगी।

पेपर I: निबंध UPSC

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) पेपर I: निबंध जिसे अंग्रेजी में (Essay) कहा जाता है। इस पेपर का महत्व बहुत अधिक होता है। यह पेपर 250 अंकों का होता है और इसमें दो खंड होते हैं, जिनमें से प्रत्येक खंड में आपको को एक-एक निबंध लिखना होता है।

इस निबंध में आपको कम से कम 1000 से लेकर 1200 शब्द में निबंध को लिखना होता है। अपने विचारो को विषय के सटीक रखते हुए यह निबंध लिखना होता है यह आपकी लेखन कौशल, तार्किकता, सोचने की क्षमता, और विचारों की स्पष्टता को परखता है।

  • कुल अंक: 250 अंक
  • समय: 3 घंटे
  • खंड: दो खंड (Section A और Section B)
  • प्रत्येक खंड में निबंध: एक खंड में एक निबंध लिखना होता है।
  • प्रत्येक खंड में विकल्प: प्रत्येक खंड में 4-5 विषय दिए जाते हैं, जिनमें से एक का चयन कर निबंध लिखना होता है।

निबंध पेपर की तैयारी के लिए सुझाव

  1. कोई भी एक विषय चुने और उस पर रोजाना आप निबंध लिखना शुरू करे।
  2. निबंध आप समसामयिक घटनाओं और मुद्दों पर ज्यादा ध्यान दें और उन पर निबंध लिखें।
  3. पिछले साल के निबंध प्रश्नपत्र देखें और उनसे अभ्यास करें।
  4. निबंध की संरचना क्लियर और स्पष्ट होनी चाहिए।
  5. निबंध की शुरुआत में विषय का Short में परिचय दें।
  6. मध्य भाग में मुख्य विचार और तर्क प्रस्तुत करें।
  7. अपने निबंध में फैक्ट और figures का सटीक उपयोग करें।
  8. पैराग्राफ में प्रस्तुत तथ्यों की विश्वसनीयता सुनिश्चित करें।
  9. भाषा सरल, स्पष्ट और प्रभावी होनी चाहिए।
  10. जटिल शब्दों और वाक्यों से बचें।
  11. व्याकरण और वर्तनी की त्रुटियों से बचें
  12. अपने विचारों को तार्किक रूप से प्रस्तुत करें।
  13. निबंध लिखने के लिए समय का सही उपयोग करें।
  14. प्रत्येक निबंध के लिए पर्याप्त समय दें और समय सीमा के भीतर पूरा करें।
  15. नियमित रूप से निबंध लिखने का अभ्यास करें।
  16. लिखे गए निबंधों की समीक्षा करें और सुधार के लिए सुझाव प्राप्त करें।
  17. विभिन्न प्रकार के निबंध लिखें, जैसे कि सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक, वैज्ञानिक, और पर्यावरणीय मुद्दों पर।
  18. इस प्रकार से आपकी तैयारी व्यापक होगी और किसी भी विषय पर निबंध लिखने में आसानी होगी।
  19. अंत में निष्कर्ष दें अपने विचार को विषय के सटीक रखते हुए।

प्रश्नपत्र – 2 सामान्य अध्ययन -1: भारतीय विरासत और संस्कृति ,विश्व का इतिहास एवं भूगोल तथा समाज का सिलेबस क्या है –

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) के सामान्य अध्ययन पेपर 2 (General Studies Paper 1) का सिलेबस काफी फैला हुआ है और इसमें भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व का इतिहास, भूगोल और समाज जैसे विषय शामिल हैं। यह पेपर 250 अंकों का होता है और इसमें आपको को विभिन्न विषयों पर गहन अध्ययन की आवश्यकता होती है।

टॉपिकसब – टॉपिक
1. भारतीय संस्कृति और विरासतभारतीय संस्कृति के प्रमुख पहलू: प्राचीन से आधुनिक काल तक के प्रमुख पहलू।
भारतीय कला, साहित्य और वास्तुकला: इनके प्रमुख रूप और उनके विकास की समझ।
2. भारत का इतिहासप्राचीन और मध्यकालीन इतिहास:प्राचीन भारत की राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक विशेषताएँ।
मध्यकालीन भारत के महत्वपूर्ण साम्राज्य और उनके योगदान।
आधुनिक भारतीय इतिहास:18वीं सदी के मध्य से वर्तमान तक का भारतीय इतिहास। ब्रिटिश शासन और उसके प्रभाव। स्वतंत्रता संग्राम के विभिन्न चरण और महत्वपूर्ण घटनाएँ।
भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन और स्वतंत्रता संग्राम के विभिन्न चरण। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महत्वपूर्ण नेता और उनके योगदान।
भारत के स्वतंत्रता के बाद का इतिहास:स्वतंत्रता के बाद का भारतीय राजनीति, अर्थव्यवस्था और समाज।
3. विश्व का इतिहास 8वीं सदी से आधुनिक काल तक:औद्योगिक क्रांति, विश्व युद्ध, उपनिवेशवाद और उपनिवेशवाद का अंत।
विश्व के विभिन्न हिस्सों में स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्रीय आंदोलन।
द्वितीय विश्व युद्ध के बाद का पुनर्निर्माण, राजनीतिक विचारधाराएँ, औद्योगिक क्रांति, उपनिवेशवाद, उपनिवेशवाद का अंत। विश्व के विभिन्न हिस्सों में स्वतंत्रता संग्राम और राष्ट्रीय आंदोलन।
4. भारतीय समाजभारतीय समाज की संरचना:भारतीय समाज की विशेषताएँ, विविधता और समस्याएँ।
महिला, शोषित वर्ग और समाज में हाशिए पर रहने वाले लोगों की समस्याएँ:सामाजिक सशक्तिकरण, सांप्रदायिकता, क्षेत्रीयता और गरीबी।
जनसंख्या और संबंधित मुद्दे:जनसंख्या की वृद्धि और उसकी समस्याएँ।
गरीबी और विकासात्मक मुद्दे:गरीबी के कारण और प्रभाव, विकास से संबंधित मुद्दे।
शहरीकरण और उससे उत्पन्न समस्याएँ:शहरीकरण के कारण और उससे उत्पन्न समस्याएँ।
5. विश्व और भारत का भूगोलभारत और विश्व का भौतिक भूगोल:भू-आकृतियों का वितरण, जलवायु, वनस्पति और वन्यजीव।
भारत के प्रमुख भौतिक विभाजन:हिमालय, उत्तरी मैदान, प्रायद्वीपीय पठार, तटीय क्षेत्र और द्वीप समूह।
भारत का आर्थिक भूगोल:प्राकृतिक संसाधन, कृषि, उद्योग, व्यापार, परिवहन और संचार।
पर्यावरण और पारिस्थितिकी:पर्यावरणीय मुद्दे, जैव विविधता, पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन।
प्राकृतिक आपदाएँ और आपदा प्रबंधन:प्राकृतिक आपदाओं के प्रकार, उनके प्रभाव और प्रबंधन के उपाय।

प्रश्नपत्र – 2 सामान्य अध्ययन -1 की तैयारी टिप्स

  1. सबसे पहले इसके सिलेबस को ठीक – ठाक तरीके से समझ ले।
  2. इसके पुराने पेपर को देखे और समझे कैसे प्र्शन upsc पूछती है।
  3. पढ़ाई के लिए सही जगह का चुनाव करे।
  4. अपना खुद का टाइम टेबल बनाये और स्ट्रेटेजी चुने।
  5. NCERT की किताबों से बुनियादी जानकारी प्राप्त करें।
  6. हर विषय के लिए नोट्स बनाएं और उन्हें नियमित रूप से रिवाइज करें।
  7. समसामयिक घटनाओं और मुद्दों पर ध्यान दें।
  8. मॉक टेस्ट हल करें और अपनी प्रगति को मापें।
  9. अपने अध्ययन का समय अच्छी तरह से प्रबंधित करें।
  10. UPSC की तैयारी के लिए विभिन्न पुस्तकों और संदर्भ सामग्री का उपयोग करें।
  11. दोस्तों या सहपाठियों के साथ समूह अध्ययन करें और विचारों का आदान-प्रदान करें।

प्रश्नपत्र – 3 सामान्य अध्ययन – 2 का सिलेबस : शासन व्यवस्था , संविधान , राजयव्यवस्था , सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध।

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) के सामान्य अध्ययन पेपर 3 (General Studies Paper 2) का सिलेबस निम्नलिखित है, जिसमें शासन व्यवस्था, संविधान, राज्यव्यवस्था, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों से संबंधित विषय शामिल हैं। यह पेपर 250 अंकों का होता है।

टॉपिक सब – टॉपिक लिस्ट
1. भारतीय संविधान और शासन व्यवस्थाभारतीय संविधान के महत्वपूर्ण पहलू:ऐतिहासिक पृष्ठभूमि, विकास और संशोधन। संविधान की प्रस्तावना, मौलिक अधिकार, राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांत, मौलिक कर्तव्य।
संविधान की विशेषताएँ:संघवाद, अलग-अलग शक्तियों का विभाजन, विभिन्न विभागों के बीच कार्यकारी शक्ति का वितरण।
संविधान की व्याख्या और संविधान संशोधन:संविधान का कार्यान्वयन और व्याख्या।
संविधान संशोधन की प्रक्रिया और उसके प्रभाव।
2. संसदीय व्यवस्था संसद और राज्य विधानमंडलों की संरचना:भारतीय संसद: लोकसभा और राज्यसभा। विधानसभाओं का गठन और उनकी कार्यप्रणाली।
संसदीय प्रणाली:संसदीय प्रणाली की संरचना और कार्य।संसदीय समितियाँ और उनकी भूमिकाएँ।
3. कार्यपालिका और न्यायपालिकाकार्यपालिका की संरचना:राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मंत्रिपरिषद। राज्यपाल, मुख्यमंत्री और राज्य मंत्रिपरिषद।
न्यायपालिका की स्वतंत्रता:न्यायपालिका की संरचना, कार्य और न्यायपालिका की स्वतंत्रता। न्यायिक समीक्षा और न्यायिक सक्रियता।
4. राज्य नीति और सरकारसरकारी नीतियाँ और उनके कार्यान्वयन:केंद्रीय और राज्य सरकारों की नीतियाँ। विभिन्न क्षेत्रों में सरकारी योजनाएँ और कार्यक्रम।
सरकारी नीतियों का प्रभाव और मूल्यांकन:नीतियों के सामाजिक और आर्थिक प्रभाव। नीतियों का मूल्यांकन और सुधार के सुझाव।
5. सामाजिक न्यायसामाजिक न्याय के मुद्दे:गरीबी, असमानता, सामाजिक भेदभाव और हाशिए पर स्थित समुदायों की समस्याएँ।
सरकारी नीतियाँ और कार्यक्रम:सामाजिक सुरक्षा और कल्याण योजनाएँ। शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार की नीतियाँ।
6. अंतर्राष्ट्रीय संबंधभारत के अंतर्राष्ट्रीय संबंध:भारत और उसके पड़ोसी देशों के संबंध। भारत के प्रमुख वैश्विक शक्ति केन्द्रों (अमेरिका, रूस, चीन, यूरोपीय संघ) के साथ संबंध।
अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में भारत की भूमिका:संयुक्त राष्ट्र, WTO, IMF, विश्व बैंक, BRICS, SAARC आदि।
भारत की विदेश नीति:विदेश नीति के प्रमुख सिद्धांत और नीतियाँ। वैश्विक मुद्दों पर भारत की स्थिति और योगदान।

प्रश्नपत्र 4 सामान्य अध्ययन – 3 : प्रौद्योगिकी , आर्थिक विकास , जैव – विविधता , पर्यावरण सुरक्षा और आपदा प्रबंधन।

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) के सामान्य अध्ययन पेपर 4 (General Studies Paper 3) का सिलेबस प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण सुरक्षा और आपदा प्रबंधन जैसे विषयों को कवर करता है। यह पेपर 250 अंकों का होता है और इसमें विभिन्न विषयों पर गहन अध्ययन की आवश्यकता होती है।

टॉपिकसब – टॉपिक
1. प्रौद्योगिकीविज्ञान और प्रौद्योगिकी:भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास का इतिहास। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विभिन्न क्षेत्रों में नवीनतम घटनाएँ और प्रगति।
प्रौद्योगिकी का समाज पर प्रभाव:प्रौद्योगिकी के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक प्रभाव। नवाचार और उनकी संभावनाएँ।
आईटी और कंप्यूटर विज्ञान:सूचना प्रौद्योगिकी और उससे संबंधित मुद्दे। साइबर सुरक्षा और साइबर आतंकवाद।
2. आर्थिक विकासभारतीय अर्थव्यवस्था और नियोजन:स्वतंत्रता के बाद की भारतीय अर्थव्यवस्था का विकास और परिवर्तन।
आर्थिक नियोजन और नीतियाँ।
विभिन्न क्षेत्रों की वृद्धि:कृषि, उद्योग और सेवा क्षेत्र की वृद्धि। हरित क्रांति, श्वेत क्रांति और नीली क्रांति।
सरकारी योजनाएँ और नीतियाँ:विभिन्न सरकारी योजनाएँ और उनकी प्रभावशीलता। गरीबी उन्मूलन और रोजगार सृजन की योजनाएँ।
बजट और कर प्रणाली:भारतीय बजट प्रक्रिया।
कर प्रणाली और कर सुधार।
3. जैव विविधताजैव विविधता के प्रकार:पारिस्थितिकीय तंत्र विविधता, प्रजाति विविधता और आनुवंशिक विविधता।
जैव विविधता के संरक्षण के उपाय:जैव विविधता संरक्षण के राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रयास। जैव विविधता अधिनियम और जैव विविधता संरक्षण नीति।
4. पर्यावरण सुरक्षापर्यावरणीय मुद्दे:वायु, जल और मृदा प्रदूषण।
जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग।
पर्यावरण संरक्षण के उपाय:पर्यावरणीय कानून और नीतियाँ।सतत विकास और पर्यावरणीय संतुलन।
विभिन्न पर्यावरणीय सम्मेलनों और समझौतों का प्रभाव:क्योटो प्रोटोकॉल, पेरिस समझौता आदि।
5. आपदा प्रबंधनप्राकृतिक आपदाएँ:भूकंप, बाढ़, सूखा, चक्रवात आदि।
इन आपदाओं का कारण और प्रभाव।
आपदा प्रबंधन के उपाय:आपदा प्रबंधन की योजना और नीति। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) की भूमिका और कार्य।
मानव निर्मित आपदाएँ:परमाणु, रासायनिक और जैविक आपदाएँ।औद्योगिक आपदाएँ और उनके प्रबंधन के उपाय।

प्रश्नपत्र – 5 सामान्य अध्ययन – 4 : नितिशास्त्र , सत्यनिष्ठा और अभिवृति।

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) के सामान्य अध्ययन पेपर 5 (General Studies Paper 4) का सिलेबस नितिशास्त्र, सत्यनिष्ठा और अभिवृति (Ethics, Integrity, and Aptitude) को कवर करता है। यह पेपर 250 अंकों का होता है और इसमें उम्मीदवारों के नैतिक दृष्टिकोण, सत्यनिष्ठा, और उनकी अभिवृति को परखने पर ध्यान दिया जाता है।

टॉपिकसब – टॉपिक
1. नैतिकता (Ethics)नैतिक अवधारणाएँ:नैतिकता और मानवीय इंटरफेस: नैतिकता के आयाम।
नैतिकता के सिद्धांत: देऑन्टोलॉजिकल, टेलीओलॉजिकल, और अन्य महत्वपूर्ण नैतिक सिद्धांत।
नैतिक सोच और शिक्षाएँ:भारतीय नैतिकता: वैदिक, बौद्ध, जैन, इस्लामी, और अन्य परंपराएँ।
पश्चिमी नैतिकता: सुकरात, प्लेटो, अरस्तू, कांट, मिल, और अन्य।
नैतिक संकट और चुनौतियाँ:व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में नैतिक संकट।
नैतिकता और मूल्यों के बीच अंतर।
2. सत्यनिष्ठा (Integrity)सत्यनिष्ठा के महत्व:व्यक्तिगत और सार्वजनिक जीवन में सत्यनिष्ठा का महत्व। सत्यनिष्ठा के सिद्धांत और उनका अनुपालन।
सत्यनिष्ठा की चुनौतियाँ:सत्यनिष्ठा के सामने आने वाली चुनौतियाँ और उनके समाधान। सार्वजनिक सेवाओं में सत्यनिष्ठा और पारदर्शिता।
3. अभिवृति (Aptitude)अभिवृति की समझ:अभिवृति और उसकी मापन की विधियाँ।
अभिवृति और प्रेरणा: विभिन्न दृष्टिकोण।
सिविल सेवा में अभिवृति:सिविल सेवकों की आवश्यक अभिवृति और दक्षता। सिविल सेवाओं में भावनात्मक बुद्धिमत्ता (Emotional Intelligence) का महत्व।
4. भावनात्मक बुद्धिमत्ता (Emotional Intelligence)भावनात्मक बुद्धिमत्ता की समझ:आत्म-जागरूकता, आत्म-नियंत्रण, सामाजिक जागरूकता और सामाजिक कौशल।
व्यावहारिक स्तिथि में भावनात्मक बुद्धिमत्ता :
भावनात्मक बुद्धिमत्ता के सिद्धांत और उनका अनुप्रयोग।
5. गवर्नेंस और नैतिकता (Governance and Ethics)नैतिक शासन के सिद्धांत:सुशासन के सिद्धांत और नैतिक प्रशासन।
सार्वजनिक सेवाओं में नैतिकता:सिविल सेवाओं में नैतिक मूल्यों और सत्यनिष्ठा का महत्व।
सार्वजनिक जीवन में भ्रष्टाचार:भ्रष्टाचार के प्रकार, कारण और निवारण के उपाय।
6. नैतिक दुविधाएँ और मामले (Ethical Dilemmas and Case Studies)नैतिक दुविधाओं का विश्लेषण:विभिन्न नैतिक दुविधाओं का विश्लेषण और समाधान।
केस स्टडीज:वास्तविक जीवन के मामलों का विश्लेषण और नैतिक दृष्टिकोण से समाधान।
पारदर्शिता और जवाबदेही:सार्वजनिक सेवाओं में पारदर्शिता और जवाबदेही की भूमिका।
7. नैतिकता में भारतीय दृष्टिकोणभारतीय दर्शन में नैतिकता:भारतीय दर्शन और नैतिकता के सिद्धांत।
महात्मा गांधी और अन्य भारतीय नेताओं के नैतिक विचार:महात्मा गांधी के नैतिक सिद्धांत और उनका अनुप्रयोग।
भारतीय संविधान और नैतिकता:संविधान में निहित नैतिक सिद्धांत।

पेपर VI: वैकल्पिक विषय पेपर I

एक वैकल्पिक पेपर ही है जो आपको अच्छी रैंक तक पहुंचाता है। इसलिए आपको वैकल्पिक पेपर बहुत सोच समझ कर चुनना होगा ताकि आप इससे अच्छे अंक हासिल कर सके। एक ऐसे विषय को चुने जिसमे आपकी रूचि के साथ वह मार्किट में उपलब्ध हो या ऑनलाइन मटेरिल आपको प्राप्त हो सके।

मेंस एग्जाम में ऑप्शनल सब्जेक्ट के 2 पेपर होते हैं और दोनों पेपर 250 अंकों का होता है।यूपीएससी मुख्य परीक्षा में कुल 47 वैकल्पिक विषय होते हैं, जिसमें 25 मुख्य विषय और 22 साहित्य वैकल्पिक शामिल हैं। निचे सूचि दी गयी है।

यूपीएससी के लिए वैकल्पिक सूची

वैकल्पिक विषय लिस्ट 25 मुख्य विषय वैकल्पिक विषय पेपर I23 साहित्य वैकल्पिक विषय पेपर  II
1कृषिअसमिया
2पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञानबंगाली
3मनुष्य जाति का विज्ञानबोडो
4वनस्पति विज्ञानडोगरी
5रसायन विज्ञानगुजराती
6असैनिक अभियंत्रणहिंदी
7वाणिज्य एवं लेखाशास्त्रकन्नड़
8अर्थशास्त्रकश्मीरी
9विद्युत अभियन्त्रणकोंकणी
10भूगोलमैथिली
11भूगर्भ शास्त्रमलयालम
12इतिहासमणिपुरी
13कानूनमराठी
14प्रबंधनेपाली
15अंक शास्त्रउड़िया
16मैकेनिकल इंजीनियरिंगपंजाबी
17चिकित्सा विज्ञानसंस्कृत
18दर्शनसंथाली
19भौतिक विज्ञानसिंधी
20राजनीति विज्ञान एवं अंतर्राष्ट्रीय संबंधतमिल
21मनोविज्ञानतेलुगु
22लोक प्रशासनउर्दू
23समाज शास्त्रअंग्रेजी
24आंकड़े
25जूलॉजी

वैकल्पिक विषय को कैसे चुने ?

  1. सबसे पहले आपको यह देखना है की आप जो विषय चुन रहे है क्या आपका उसमे इंट्रेस्ट है या नहीं। अगर है तो आप वही विषय को चुने।
  2. दूसरी महत्वपूर्ण बात आपने जो विषय पसंद किया है क्या उसकी सामग्री आपको मार्किट में आसानी से मिल जाएगी।
  3. विषय को समझाने के लिए टीचर उपलब्ध हो ऑनलाइन या ऑफलाइन।
  4. एक ऐसे विषय को चुने जिसकी भाषा सरल और समझने वाली हो।
  5. आपने जो विषय चुना है क्या वह स्कोरिंग वाला विषय है। आपको अच्छे अंक दिला सकता है।

देखिये वैकल्पिक एक ऐसा विषय है जिसे पसंद करना केवल एक कैंडिडेट के ऊपर होता है। क्योकि वह विषय आपको पड़ना है इसलिए टीचर से ज्यादा आप उस विषय के बारे में समझ सकते है। टीचर सिर्फ आपको गाइडेंस और विषय को समझा सकती है। इसलिए आप अपने आप से सवाल करके देखे की क्या आप इस विषय को पड़ सकते है या नहीं।

UPSC मुख्य परीक्षा का सामान्य क्रम देखे ?

UPSC मुख्य परीक्षा (Mains) में सबसे पहले होने वाला पेपर पेपर A: अनिवार्य भारतीय भाषा होता है। इसके बाद पेपर B: अंग्रेजी होता है। ये दोनों पेपर क्वालिफाइंग नेचर के होते हैं। इनके बाद सामान्य अध्ययन (General Studies) और वैकल्पिक विषय (Optional Subject) के पेपर होते हैं।

पेपरसमय
पहला दिनसुबह: पेपर A (अनिवार्य भारतीय भाषा)
दोपहर: पेपर B (अंग्रेजी)
दूसरा दिनसुबह: पेपर I (निबंध)
तीसरा दिनसुबह: पेपर II (सामान्य अध्ययन-I)
दोपहर: पेपर III (सामान्य अध्ययन-II)
चौथा दिनसुबह: पेपर IV (सामान्य अध्ययन-III)
दोपहर: पेपर V (सामान्य अध्ययन-IV)
पांचवां दिनसुबह: पेपर VI (वैकल्पिक विषय पेपर I)
दोपहर: पेपर VII (वैकल्पिक विषय पेपर II)

ये पेपर एक निश्चित समय सारणी के अनुसार आयोजित किए जाते हैं और उम्मीदवारों को सभी पेपर में उपस्थित होना अनिवार्य है। क्वालिफाइंग पेपरों में उत्तीर्ण होने के बाद ही सामान्य अध्ययन और वैकल्पिक विषयों के पेपरों का मूल्यांकन किया जाता है।

यूपीएससी की पढ़ाई कहां से शुरू करें?

  1. सिलेबस और परीक्षा पैटर्न: पहले UPSC सिलेबस और परीक्षा पैटर्न को अच्छी तरह समझें।
  2. NCERT किताबें: 6वीं से 12वीं तक की NCERT किताबों से बेसिक समझ विकसित करें।
  3. समाचार पत्र और मैगज़ीन: दैनिक समाचार पत्र (जैसे द हिंदू या इंडियन एक्सप्रेस) और मासिक मैगज़ीन (जैसे Yojana, Kurukshetra) पढ़ें।
  4. प्रीवियस ईयर प्रश्न पत्र: पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र हल करें ताकि परीक्षा के प्रकार को समझ सकें।
  5. स्टैंडर्ड बुक्स: हर विषय के लिए स्टैंडर्ड बुक्स पढ़ें (जैसे लक्ष्मीकांत की भारतीय राजनीति, बिपिन चंद्र की भारतीय इतिहास)।
  6. नोट्स बनाएं: पढ़ाई के दौरान अपने नोट्स बनाएं और नियमित रिवीजन करें।
  7. इस प्रकार, एक मजबूत नींव बनाकर अपनी UPSC की तैयारी शुरू करें।
UPSC की तैयारी कैसे करे 2024 – जानिये घर बैठे यूपीएससी की तैयारी कैसे करेंIAS kaise bante hain 2024 – जानिये IAS Kaise Bane

UPSC पढ़ाई के लिए बेस्ट स्ट्रेटेजी टिप्स हिंदी मीडियम

  • सबसे पहले UPSC का सिलेबस और परीक्षा पैटर्न अच्छे से समझें। यह जानना जरूरी है कि किन विषयों का अध्ययन करना है।
  • 6वीं से 12वीं तक की NCERT की किताबें हिंदी में पढ़ें। यह आपकी बेसिक जानकारी को मजबूत करेगा।
  • दैनिक समाचार पत्र (जैसे दैनिक जागरण, जनसत्ता) और मासिक पत्रिकाएँ (योजना, कुरुक्षेत्र) नियमित रूप से पढ़ें। इससे समसामयिक घटनाओं पर पकड़ बनेगी।
  • हर विषय के लिए मानक पुस्तकों का चयन करें। जैसे –भारतीय राजनीति के लिए लक्ष्मीकांत ,
    भारतीय इतिहास बिपिन चंद्र की किताबें ,और भूगोल में माजिद हुसैन ,आर्थिक विकास रमेश सिंह आदि।

हिंदी मीडियम में यूपीएससी कैसे क्रैक करें?

  • हिंदी मीडियम में UPSC क्रैक करने के लिए, सबसे पहले परीक्षा के सिलेबस और पैटर्न को अच्छी तरह से समझें।
  • 6वीं से 12वीं तक की NCERT किताबें हिंदी में पढ़ें ताकि बुनियादी ज्ञान मजबूत हो सके।
  • रोजाना हिंदी समाचार पत्र (जैसे दैनिक जागरण या जनसत्ता) और मासिक पत्रिकाएँ (योजना, कुरुक्षेत्र) पढ़ें ताकि समसामयिक घटनाओं पर पकड़ बने।
  • हर विषय के लिए मानक पुस्तकों का अध्ययन करें, जैसे “भारत का संविधान” – लक्ष्मीकांत और “भारत का इतिहास” – बिपिन चंद्र। प
  • ढ़ाई के दौरान हिंदी में नोट्स बनाएं और नियमित रूप से रिवीजन करें।
  • पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र हल करके परीक्षा पैटर्न को समझें और मॉक टेस्ट देकर अपनी तैयारी का आकलन करें।
  • यदि संभव हो, तो हिंदी माध्यम की कोचिंग जॉइन करें या ऑनलाइन उपलब्ध हिंदी सामग्री का उपयोग करें।
  • दृढ़ संकल्प, नियमित अध्ययन और सही रणनीति के साथ, हिंदी मीडियम में भी UPSC सफलतापूर्वक क्रैक किया जा सकता है।
बिना कोचिंग घर पर जीरो लेवल से यूपीएससी की तैयारी कैसे शुरू करें?6-12 ncert books for upsc in hindi – यूपीएससी के लिए एनसीईआरटी बुक्स लिस्ट
 आईएएस  बुक लिस्ट हिंदी मीडियम pdf – Best यूपीएससी सिलेबस बुक लिस्ट 2024Upsc notes कैसे बनाते है जाने 

FAQs

आयोग की वेबसाइट पर जाकर उम्मीदवार पीडीएफ फाइलों में यूपीएससी सीएसई पाठ्यक्रम प्राप्त कर सकते हैं

प्रीलिम्स के लिए यूपीएससी सिलेबस में दो अनिवार्य पेपर शामिल हैं: सामान्य अध्ययन पेपर- I और सामान्य अध्ययन पेपर- II (जिसे सीएसएटी या सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट के रूप में भी जाना जाता है)। ये पेपर इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, राजनीति, पर्यावरण, विज्ञान और समसामयिक मामलों सहित विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करते हैं।

नोट्स बनाएं समाचार पत्र और पत्रिकाएँ पढ़ें:मॉक टेस्ट दे समय प्रबंधन करें।केस स्टडीज: विभिन्न नैतिक दुविधाओं और विशिष्ट पुस्तकों और संदर्भ सामग्री को चुने समूह अध्ययन करे।

दो पेपर शामिल है – पेपर 1 और पपेर 2 जिसे CSAT कहते है।

UPSC की तैयारी आप स्नातक के अंतिम वर्ष से शुरू कर सकते हैं, लेकिन आदर्श रूप से तैयारी को कम से कम एक से डेढ़ साल का समय देना चाहिए। इससे आपको सिलेबस कवर करने, मॉक टेस्ट देने और रिवीजन के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है। जितनी जल्दी आप तैयारी शुरू करेंगे, उतना ही बेहतर होगा।

पेपर A: अनिवार्य भारतीय भाषा (300 अंक) [क्वालिफाइंग]
पेपर B: अंग्रेजी (300 अंक) [क्वालिफाइंग]
पेपर I: निबंध (250 अंक)
पेपर II: सामान्य अध्ययन-I (250 अंक)
पेपर III: सामान्य अध्ययन-II (250 अंक)
पेपर IV: सामान्य अध्ययन-III (250 अंक)
पेपर V: सामान्य अध्ययन-IV (250 अंक)
पेपर VI: वैकल्पिक विषय पेपर I (250 अंक)
पेपर VII: वैकल्पिक विषय पेपर II (250 अंक)

सबसे पहले सिलेबस को समझे उसके बाद नसीईआरटी पुस्तकों से शुरुआत करें।

Leave a Comment