mppsc ki taiyari kaise karen 2024 – एमपीपीएससी की तैयारी के लिए Best Books

mppsc ki taiyari kaise karen:- मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (mppsc) परीक्षा एक  highly competitive परीक्षाओ में से एक है जो विभिन्न विषयों में उम्मीदवार के knowledge और Skill का परीक्षण करती है।मुख्य रूप से यह परीक्षा तीन चरणों मैं बटी रहती है – प्रारंभिक , मुख्य परीक्षा और  इंटरव्यू यह तीनो चरण पास करने के बाद आप एक नए पद के लिए नियुक्त किये जाते है जिसमे पद मुख्य रूप से Deputy Collector, Deputy sp, Revenue, Transport, Education आदि डिपार्टमेंट होते है।

यदि आप का सपना MPPSC परीक्षा को क्लियर करके बेस्ट पोस्ट हासिल करना है तब आप के पास इस परीक्षा को पास करने के लिए एक सही रणनीति और सुझाव की आवयश्कता जरूर होती है।

तो आइए समझते हैं कि MPPSC की तैयारी कैसे करे (MPPSC Preparation In Hindi)अच्छी  रणनीति और सुझाव के साथ।इस परीक्षा को अच्छे अंकों से पास करने के लिए आपको mppsc की तैयारी की रणनीति, परीक्षा पैटर्न और इसके Updates पाठ्यक्रम को Detailed तरीके से समझना होगा। तभी आप इस परीक्षा के बेसिक कॉन्सेप्ट को समझ सकते है।

mppsc ki taiyari kaise karen 2024

 MPPSC
mppsc ki taiyari kaise karen

यदि आप शुरुआती छात्र हैं तो आप  इन रणनीतियों का पालन जरूर करे ये कुछ  पॉइंट है जो सभी उम्मीदवार को फॉलो करना चाहिए।  एमपीपीएससी की तैयारी करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिपणियां हैं:

 चरण 1. सिलेबस और परीक्षा पैटर्न का ज्ञान  

 सबसे सबसे एमपीपीएससी की आधिकारिक वेबसाइट https://mppsc.mp.gov.in/पर जाय और सिलेबस को डाउनलोड करे  उसके बाद सिलेबस और एग्जाम पैटर्न को को अच्छे तरीके से समझ ले।  सिलेबस की आप फोटो कॉपी करा कर अपने रूम या स्टडी टेबल पर चिपका ले ताकि आप की नज़र रोज सिलेबस और पैटर्न पर पड़ती रहे। सिलेबस और परीक्षा पैटर्न का ज्ञान सबसे पहले तो, आपको एमपीपीएससी के सिलेबस और परीक्षा पैटर्न को अच्छी तरह से समझना होगा। इसे आपको पता चलेगा कि कौन-कौन से विषय महत्वपूर्ण हैं और कैसी परीक्षा दी जाती है।

चरण .2 मॉक टेस्ट और पिछले वर्षों के पेपर 

मॉक टेस्ट और पिछले वर्षों के पेपर: मॉक टेस्ट और पिछले वर्षों के पेपर हल करना भी एक महत्वपूर्ण रणनीति है। क्या आपको परीक्षा के पैटर्न और कठिनाई स्तर का विचार मिल गया है, आप अपनी गलतियों को भी पहचान सकते हैं। अब हमें मालूम होना चाहिए की एग्जाम कैसे प्र्शन पूछता है और क्या लेवल है इसके लिए आप 4 से 5 साल के पुराने पेपर की pdf निकलवा ले या ऑनलाइन की सहायता से आप बहुत सी वेबसाइट पुराने पेपर को प्रोवाइड करती है फ्री में आप वहा  से डाउनलोड करे और प्रॉपर समय ले एक दिन दो दिन या 15 दिन जितना हो  सके पेपर का Analysis करे।

चरण 3 . सार्थक अध्ययन समय 

सार्थक अध्ययन समय: आपको अपने अध्ययन का समय सही समय पर शेड्यूल करना होगा। हर दिन विशिष्ट विषयों के लिए या विषयों का समय निर्धारित करें और उनमें निरंतरता बनाएं। प्रत्येक विषय को कवर करने के लिए आपके पास एक स्ट्रेटेजी का होना बहुत जरुरी है क्योकि आपको बहुत सी किताबों का अध्ययन करना है इसलिए एक टाइम टेबल बनाय की आप कितने समय से पढ़ाई कर सकते है। जितना हो सके आप रोजाना 5 से 6 घंटे का समय निकाले और पुरे सिलेबस को कम्पलीट करे।

चरण 4. 6th  – 12th  Ncert जरूर पढ़े 

अब आप इतना समझ चुके है की इस पेपर का बेसिक knowledge लेवल क्या है तो सबसे पहले history, polity, geography, science इनकी 6 – 12 ncert जरूर पढ़े इससे आपकी subjects की बेसिक समझ बढ़ेगी। और मोस्टली प्र्शन बेसिक से ही बनाए जाते है।

चरण 5 . सही स्टडी मटेरियल का चुनाव

सही स्टडी मटेरियल का चुनाव: आपको सही स्टडी मटेरियल का चुनाव करना होगा। इसमे किताबें, नोट्स, ऑनलाइन संसाधन, और टेस्ट सीरीज़ शामिल होती हैं। जो भी सामग्री आप चुनते हैं, वह आपके पाठ्यक्रम और परीक्षा पैटर्न के अनुसार हो।अब आप की समझ विकसित हो चुकी है तो अब आप standard books पढ़ सकते है polity – लक्ष्मीकांत, जियोग्राफी – महेश वर्णवाल, history आधुनिक विपिन चंद्रा, मध्यकालीन सतीश चंद्रा, प्राचीन R. S. शर्मा आदि।

आपकी ncert कम्पलीट  होने के बाद आप एडवांस्ड बुक को फॉलो कर सकते है। बुक का चुनाव भी सावधानी पूर्वक करे जो टोपरस द्वारा suggest की गयी हो अपने सौर्सेस को लिमिटेड रखे।  जिससे आपकी पढ़ाई अच्छे से हो सके।

Check Out –

करंट अफेयर्स पर ध्यान देना: एमपीपीएससी में करंट अफेयर्स का भी महत्व है। आपको दैनिक समाचार पत्र पढ़ना, करेंट अफेयर्स मैगजीन या ऑनलाइन पोर्टल फॉलो करना चाहिए। इन सबके साथ आपको current affairs भी डेली पढ़ना है क्योकि अब करंट से रेलेड करके क्वेश्चन ज़्यादा पूछें जाते है, यदि आप इंग्लिश medium के है तो the Hindu newspaper और editorial जरूर पढ़े और यदि आप हिंदी medium के है तो यूट्यूब पर the Hindu newspaper एनालिसिस जरूर सुने study lover veer & study IQ आदि।
ऐसे यूट्यूब channel है जहा आपको editorial एनालिसिस मिलेगा आपको जो भी अच्छा लगे उसे follow कीजिए और डेली कीजिये इससे आपको देश दुनिया का best नॉलेज मिलेगा अंडरस्टैंडिंग बढ़ेगी, सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ेगा mains में answer राइटिंग में बहुत मदद मिलेगी हो सके तो आप नोट्स भी बना सकते है।

शॉर्ट नोट्स बनाना आपकी हैबिट के ऊपर है की आप बनना  चाहते है या नहीं देखा जाय तो नोट्स बनाना काफी अच्छा होता है आपने अभी तक जो भी पड़ा है और आपने नोट्स बनाय हुए है तो यह आपको एग्जाम के टाइम पर बहुत  हेल्प करते है।

नियमित रिवीजन: हर एक विषय को नियमित अंतराल पर रिवीजन करना बहुत जरूरी है। इसे याद रखने में मदद मिलेगी और कॉन्सेप्ट भी मजबूत होंगे। अभी तक आपने जो पड़ा है  उसे याद रखने के लिए बहुत इम्पोर्टैंट होता है revision करना।

आखिरी टिप, अपने आप पर भरोसा रखना और सकारात्मकता बनाए रखना। आत्मविश्वास का साथ पढाई करना आपको सफल बनायेगा। तैय्यारी में शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना जरूरी है। नियमित व्यायाम, योग और ध्यान से आप अपनी एकाग्रता बढ़ा सकते हैं।

MPPSC की तैयारी सब्जेक्ट वाइज देखे 

सभी विषयों में से इतिहास का पाठ्यक्रम सबसे बड़ा होता है। इस प्रकार, mppsc की तैयारी में इतिहास के पूरे पाठ्यक्रम को कवर करने के लिए इतिहास की तैयारी के लिए एक स्मार्ट तरीके की आवश्यकता होती है।

भारतीय इतिहास (History) : सभी विषयों में से इतिहास का पाठ्यक्रम सबसे बड़ा होता है। इस प्रकार, mppsc की तैयारी में इतिहास के पूरे पाठ्यक्रम को कवर करने के लिए इतिहास की तैयारी के लिए एक स्मार्ट तरीके की आवश्यकता होती है।

  • इस विषय को तीन भागों में बांटा गया है: प्राचीन , मध्यकालीन और आधुनिक इतिहास।
  • अन्य राज्य सिविल सेवा परीक्षाओं और आईएएस के पाठ्यक्रम की तुलना करें तो यह कमोबेश एक जैसा ही है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि एनसीईआरटी की किताबों का पूरी तरह से अध्ययन करें। बाद में, छात्र राज्य की पुस्तकों का अध्ययन कर सकते हैं।
  • छात्रों को भारत के इतिहास के साथ-साथ मध्य प्रदेश के इतिहास का अध्ययन करना चाहिए।
  • मध्य प्रदेश के राजवंशों, उनके शासकों और उनकी उपलब्धियों पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।

भारत और विश्व का भूगोल : भूगोल पाठ्यक्रम को विश्व भूगोल, भारतीय भूगोल, मध्य प्रदेश का भूगोल और भूगोल में उन्नत techniques में divided किया गया है।

  • दुनिया और भारत के भूगोल से संबंधित basic concepts को विकसित करने के लिए छात्रों को 11वीं और 12वीं कक्षा की एनसीईआरटी की भूगोल की किताबों को जरूर पड़ना चाहिए।
  • भौतिक विशेषताओं, भौगोलिक परिघटनाओं, जलवायु और विश्व तथा भारत में जनसंख्या वितरण की factual information पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसके लिए वे ल्यूसेंट की सामान्य ज्ञान की किताब पढ़ सकते हैं
  • छात्रों को भौतिक भूगोल विषयों का अध्ययन करते समय मध्य प्रदेश के मानचित्र का बार-बार उपयोग करना चाहिए
  • मध्य प्रदेश के भूगोल के कई विषय मध्य प्रदेश के अर्थशास्त्र के साथ ओवरलैप करते हैं जैसे मध्य प्रदेश के अर्थशास्त्र, बुनियादी ढांचे और संसाधनों के क्षेत्र। इन विषयों को सभी aspects से overall रूप से एक साथ कवर किया जाना चाहिए।
  • समाचार पत्र पढ़ने से भी इस विषय में बहुत लाभ होता है।

 भारतीय राजव्यवस्था : इस विषय से प्रारंभिक चरण में लगभग 15-20 प्रश्न और मुख्य परीक्षा में 150 अंक के प्रश्न आते हैं।

  • छात्रों को संसद, राज्य और केंद्रीय विधानमंडल, पंचायती राज, समाचार या बहस, चुनाव आयोग आदि में विधायी विधेयकों जैसे विषयों को वेटेज दिया जाता है। इन्ही बेसिक बातों पर ध्यान देना चाहिए।
  • सिलेबस में mentioned सभी संवैधानिक और गैर-संवैधानिक निकायों पर संक्षिप्त नोट्स और उनके बारे में बेसिक जानकारी तैयार की जानी चाहिए।
  • राजनीति को स्पष्ट रूप से समझने के लिए, एम. लक्ष्मीकांत की पुस्तक भारतीय राजनीति का अनुसरण कर सकते हैं। समाचार देखना और करेंट अफेयर्स से अपडेट रहना भी लंबे समय के लिए फायदेमंद होगा।

भारतीय अर्थव्यवस्था : अर्थशास्त्र के प्रश्न सीधे पाठ्यक्रम में mentioned विषयों से पूछे जाते हैं और कोई भी बेसिक बुक  Sufficient है।

  • डेटा, योजनाओं, trends , बजट आवंटन आदि पर ध्यान दिया जाना चाहिए।
  • मध्यप्रदेश की अर्थव्यवस्था  पर ज़्यादा ध्यान दे।

कला और संस्कृति :सिलेबस में भारतीय सांस्कृतिक विरासत” शब्द Mention है, इसलिए ज़्यादातर प्रश्न विशेष रूप से मध्य प्रदेश की कला और संस्कृति के बारे में पूछे जाते हैं।

यह हिस्सा बहुत fact-based है और लम्बे समय तक याद रख पाना  मुश्किल होता है। इस प्रकार छात्र जानकारी को area wise, period wise आदि categories में divided कर सकते हैं। विभिन्न प्रदेशों की जनजातीय लोक कला एवं संस्कृति तैयार करते समय मानचित्र का  प्रयोग जरूर करे।

 करंट अफेयर्स  : करंट अफेयर्स सिलेबस का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। प्रारंभिक चरण में इस भाग से 6-10 प्रश्न आते हैं और मुख्य में कई प्रश्न direct या  indirect रूप से वर्तमान घटनाओं से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है।

  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की वर्तमान घटनाएँ।
  • करेंट अफेयर के लिए रोजगार और निर्माण (साप्ताहिक) पढ़ें [MCQs को हल करने का भी प्रयास करें] + प्रतियोगिता दर्पण (मासिक) और दैनिक समाचारों के लिए टीवी समाचार देखें या कोई समाचार पत्र पढ़ें।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी :

  • विज्ञानं को कवर करने के लिए आप सबसे पहले  पिछले साल के  प्रश्न पत्रों को जरूर देखले। इस प्रकार छात्रों को सलाह दी जाती है कि वे Relevant जानकारी के लिए इंटरनेट और समाचार पत्रों का उपयोग करें और technological advances  पर फोकस करते रहें।
  • कुछ महत्वपूर्ण विषयों को कवर करने के लिए कक्षा 12वीं की जीव विज्ञान एनसीईआरटी की पुस्तकों का selective अध्ययन किया जा सकता है।

पर्यावरण  :

  • उम्मीदवार को पर्यावरण और जैव विविधता (biodiversity) , पारिस्थितिक तंत्र (ecological system) , प्रदूषण, ऊर्जा के प्रकार, conservation आदि जैसी बेसिक कॉन्सेप्ट से पूरी तरह परिचित होना चाहिए।

मध्य प्रदेश का सामान्य ज्ञान : इस खंड में खेल और पुरस्कार सबसे महत्वपूर्ण विषय हैं। नोट्स बनाना सबसे आसान संशोधन में मदद करता है और MPPSC की तैयारी को आसान बनाता है।

समाजशास्त्र और सामाजिक मुद्दे : यह भाग समाज के  Connected विषयों और स्वास्थ्य, शिक्षा आदि सामने आने वाली चुनौतियों से संबंधित है। इस विषय को तैयार करने के लिए आप इग्नू के मटेरियल से उपयोग कर सकते है और आप जो नोट्स बनाएंगे करंट अफेयर्स, योजनाओं और सामाजिक मुद्दों से संबंधित तो आप इन के साथ अपडेट रह सकते है।

✅check Out> Mppsc सिलेबस क्या है 

12th के बाद MPPSC की तैयारी कैसे करें

  • MPPSC की परीक्षा पैटर्न और सिलेबस को समझना महत्वपूर्ण है। इससे आपको परीक्षा की structure का अध्ययन करने का तरीका समझ में आएगा।
  •  MPPSC की तैयारी के लिए उपयोग स्टडी मटेरियल का चयन करें। यह सामग्री पुस्तकें, ऑनलाइन संसाधनों, नोट्स, और अन्य स्रोतों के रूप में हो सकती है।
  •  नियमित रूप से प्रैक्टिस सेशन और मॉक टेस्ट लें। यह आपको परीक्षा के पैटर्न को समझने में मदद करेगा और समय प्रबंधन कौशल को सुधारेगा।
  • अपने समय का सही रूप से उपयोग करें। विभिन्न विषयों के लिए निर्धारित समय और अध्ययन के लिए एक निर्धारित समय स्लॉट बनाएं।
  • अगर आपके पास कोई समूह या स्टडी ग्रुप है, तो इसका लाभ लें। साथ ही, आप दोस्तों और सहकर्मियों के साथ विषयों को समझने में भी मदद प्राप्त कर सकते हैं।
  • प्रारंभिक चरण में विषय के आधारिक सिद्धांतों को समझें। इससे आपकी आधुनिक विषयों की अच्छी धारा बनेगी।
  • परीक्षा के दिन पहले की तैयारी करें, जैसे कि प्रवेश पत्र, पहनावा, और अन्य आवश्यक वस्त्र। इसके अलावा, परीक्षा के दिन सकारात्मक और उत्साहित रहें।
  • समय-समय पर अपडेट किए गए ताजा विषयों और परीक्षा पैटर्न को ध्यान में रखें। इससे आपकी तैयारी को नवीनतम और प्रभावी बनाए रखने में मदद मिलेगी।

MPPSC की तैयारी के लिए स्मार्ट टिप्स जानिए

  1. MPPSC की तैयारी करने के लिए  सबसे पहले आपको मैन्स पेपर की तैयारी करनी है न की प्रीलिम्स की अगर आप मैन्स की तैयारी पूरी तरह कवर कर लेते है तो प्रीलिम्स की तैयारी ऑटोमैटिक्ली पूरी हो जाती है। जिससे आपको प्रीलिम्स का पेपर होने से पहले  2 -3 month में तैयारी आराम से कवर कर सकते है।
  2. यदि आपका prelims अच्छा गया है और 70–75 के आसपास आपके question correct है तो फिर आप mains की तैयारी कीजिये इसके लिए आपने जो mains के शार्ट  notes बनाए हुए है उनका दुबारा से revision कीजिये।
  3. यदि आप कोचिंग कर रहे है तो आप कोचिंग के notes और इंटरनेट की मदद से पढ़ाई कीजिये mains की test series जरूर लगाए चाहे आपने कोचिंग की हो या नहीं पर test सीरीज जरूर लगाए ये मेरी humble request है ये आपसे।
  4. आपके test series का जो भी schedule है उसके अनुसार तैयारी कीजिये test दीजिये, तैयारी कीजिये test दीजिये बस ज्यादा से ज्यादा answer writing कीजिये short notes बनाकर रखिये बार बार revision कीजिये।
  5. Answer राइटिंग improve कीजिए test series में जो भी suggestions मिलते है उस पर काम कीजिये और full confidence से mains दीजिये की आप deputy collector बन रहे है।
  6. यदि आपका mains अच्छा गया तो अब interview की तैयारी कीजिये ज्यादा से ज्यादा लोगो से बाते कीजिये, अपने अंदर अच्छी क्वालिटी develop कीजिये, अपने गृह जिले के बारे में जाने, mp व देश के बारे में जाने, solution oriented बनिये, अपना best version और opinion दीजिये।

MPPSC की तैयारी के लिए सावधानियाँ बरतें 

  • प्रारंभिक एग्जाम देने के लिए, आपको इसके सिलेबस के बेसिक ज्ञान की अच्छी समझ होनी चाहिए और प्रारंभिक परीक्षा के लिए 3-4 महीने पर्याप्त हैं। एमपीपीएससी के लिए विभिन्न ऑनलाइन पाठ्यक्रम भी उपलब्ध हैं।
  • पुस्तकें:। ल्यूसेंट, एनसीईआरटी (6-12) और एमपी: एक परिचय टीएमएच बुक, कोई भी किताब तीन एक्ट और दैनिक समाचार पत्र पढ़ने या राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय करंट अफेयर्स की सामान्य जागरूकता के लिए प्रीलिम्स के लिए पर्याप्त है
  • मेन्स के लिए पढ़ने से ज्यादा जरूरी है लिखना। आप सभी पुस्तकों को अवश्य पढ़ें और पाठ्यक्रम के प्रत्येक विषय की बेहतर समझ प्राप्त करें फिर लिखना शुरू करें। क्योंकि descriptive परीक्षा को पास करने के लिए ज्ञान की presentation महत्वपूर्ण होती है।
  • कम से कम किताबों का सोर्सेस रखे ,ज्यादा किताबे इखट्टा न करे ,मटेरियल के लिए इधर -उधर न भटके , जितना हो सके लिमिटेड पड़े।
  • अपना पढ़ाई का शेडूअल बना कर रखे ,एकांत में पड़े और मन लगा कर पड़े क्योकि आपको भी यह मालूम होगा की किसी चीज को पाने के लिए उसमे मेहनत ज्यादा लगती है इसलिए आपको पढ़ाई के दौरान खुद को उसमे बांध कर रखना ही पड़ेगा।

MPPSC की तैयारी के लिए Best Books  

MPPSC की तैयारी के लिए यहां पर कुछ प्रमुख पुस्तकें है जो आपकी तैयारी में मदद कर सकती है।

  1. सामान्य अध्ययन (General Studies):
    • MPPSC General Studies by Dr. Hariom Gangwar
    • Madhya Pradesh Samanya Gyan by Sanjeev Malviya
    • MPPSC Prarambhik Pariksha Samanya Adhyayan by Dr. Lal and Jain
  2. भूगोल (Geography):
    • Bhugol by Majid Husain
    • Bharat Ka Bhugol by Khullar
    • Bhugol Evam Paryavaran by Savindra Singh
  3. भारतीय राजव्यवस्था (Indian Polity):
    • Indian Polity by M. Laxmikanth
    • Bharatiya Rajvyavastha by M. P. Mishra
  4. भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy):
    • Indian Economy by Ramesh Singh
    • Bharatiya Arthvyavastha by Ramesh Singh
  5. इतिहास (History):
    • History of Modern India by Bipin Chandra
    • Bharatiya Itihas by Krishna Reddy
  6. विज्ञान और प्रौद्योगिकी (Science and Technology):
    • General Science by Lucent Publication
    • Science and Technology by Spectrum Publication
  7. पर्यावरण (Environment):
    • Environmental Studies by R. Rajagopalan
    • Paryavaran Evam Paristhitiki by Dr. Anubha Kaushik
  8. सामान्य हिंदी (General Hindi):
    • MPPSC Samanya Hindi by Bhartiya Vidya Bhawan
    • Samanya Hindi by Arihant Publication

इन पुस्तकों के अलावा आपको करंट अफेयर्स  भी किसी अच्छी मैगज़ीन या न्यूज़ पेपर का सब्क्रिप्शन लेना चाहिए आपको सामान्य ज्ञान और सामयिक घटनाओं से अपडेट रखने में मदद करेगा।  इसके अलावा प्रीवियस इयर्स के क्वेश्चन पेपर का भी अध्यन करना न भूलें क्योकि ये आपको एग्जाम पैटर्न और इम्पोर्टेन्ट टॉपिक्स का पता लगाने में मदद करेगा।

mppsc kaise nikale 2024

MPPSC (Madhya Pradesh Public Service Commission) की परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण चरण होते हैं। यहां एक साधारण तरीका दिया गया है जिसका अनुसरण करके आप MPPSC परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकते हैं:

  1. पाठ्यक्रम का अध्ययन: MPPSC की परीक्षा के पाठ्यक्रम को ध्यानपूर्वक समझें और इसे कवर करें। पाठ्यक्रम में शामिल विषयों को विशेष ध्यान दें जो परीक्षा में अधिक महत्वपूर्ण हों।
  2. पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों का अध्ययन: पिछले सालों के प्रश्न पत्रों का अध्ययन करना अच्छा विचार होता है। यह आपको परीक्षा पैटर्न, विषयों का महत्व, और अन्य महत्वपूर्ण विषयों को समझने में मदद कर सकता है।
  3. नोट्स बनाएं और समीक्षा करें: अध्ययन के दौरान, महत्वपूर्ण बिंदुओं को नोट्स बनाएं। इससे आपका अध्ययन संगठित रहेगा और आप आसानी से उन्हें समीक्षा कर सकेंगे।
  4. मॉक टेस्ट दें: मॉक टेस्ट देना आपको अपनी प्रगति को मापने में मदद कर सकता है और परीक्षा के पैटर्न को समझने में सहायक हो सकता है।
  5. समय प्रबंधन: परीक्षा के समय के दौरान, समय का उपयोग समझदारी से करें। हर विषय के लिए पर्याप्त समय दें और आपकी प्राथमिकताओं के अनुसार प्रश्नों को हल करें।
  6. सामान्य ज्ञान की तैयारी: MPPSC परीक्षा में सामान्य ज्ञान का भी बड़ा महत्व होता है। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मामलों, सामाजिक और आर्थिक विषयों पर अद्यतित रहें।
  7. स्वास्थ्य ध्यान: परीक्षा के समय में अच्छे स्वास्थ्य का ध्यान रखें। पर्याप्त आराम और स्वस्थ आहार का सेवन करें।

इन सरल चरणों का पालन करके, आप MPPSC परीक्षा में सफल हो सकते हैं। ध्यान दें कि प्रत्येक व्यक्ति का अध्ययन तकनीक अलग हो सकता है, इसलिए अपने अध्ययन प्लान को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार अनुकूलित करें।

निष्कर्ष

उम्मीद हैं आपको यह पोस्ट (MPPSC की तैयारी कैसे करे) आपकी तैयारी के लिए फायदे मंत होगी  एक बात और यह पोस्ट उन सभी कैंडिडेट के लिए है जो तैयारी कर रहे है या करने वाले है फिर चाहे वह घर से करे या किसी other कोचिंग सेंटर से यह पोस्ट सभी प्रकार की तैयारी के लिए है हेल्पफुल है।

इस पोस्ट में  हमने सभी प्रकार की मुश्किलों  को हल करने की कोशिश की है और इससे रिलेटिव मेरी बाकि पोस्ट और है जिसमे मेने आपको इसकी बुक्स के बारे में बताया हुआ है और एग्जाम के बारे में तो जरूर देखे और समझे की क्या करना है अब आगे आपको।

FAQs

एमपीपीएससी में क्या क्या पढ़ना पड़ता है?

भारतीय इतिहास (History) ,भारत और विश्व का भूगोल ,भारतीय राजव्यवस्था ,भारतीय अर्थव्यवस्था ,कला और संस्कृति ,करंट अफेयर्स ,विज्ञान और प्रौद्योगिकी ,पर्यावरण ,मध्य प्रदेश का सामान्य ज्ञान ,समाजशास्त्र और सामाजिक मुद्दे

12th के mppsc की तैयारी कैसे करें ?

सबसे पहले एमपीपीएससी परीक्षा पैटर्न और सिलेबस को अच्छे से समझ ले और इसके प्रीवियस ईयर के प्रश्नो को देखे उसके बाद इम्पोर्टेन्ट बुक लिस्ट का चयन करे और NCERT को अच्छे तरह से पड़ना शुरू करदे ताकि आपका बेसिक कांसेप्ट क्लियर हो सके।

Mppsc की शुरुआत कैसे करें?

पहला – इसका सिलेबस डिटेलस पड़े और याद करे

दूसरा – पुराने पेपर का एनालिसिस जरूर करे।

तीसरा – बेसिक ncert 6 वी से लेकर 12 वी तक सभी ncert पड़े।

चौथा – इसके बाद ही आप एडवांस्ड बुक को फॉलो करे और करंट अफेयर्स को।

क्या एमपीपीएससी में माइनस मार्किंग है?

प्रारंभिक परीक्षा में माइनस मार्किंग होती है।

एमपीपीएससी परीक्षा किस भाषा में आयोजित की जाती है?

MPPSC परीक्षा अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में आयोजित की जाती है।

Leave a Comment